Thursday, December 18, 2008

शुरुआत मुक्तक से

झांक मत खिड़की से आना है तो दरवाजे से आ,
आ दिखा जलवा तू अपनी और दरवाजे से जा,
इस नजर के खेल में कब तक टिकेगा कौन जाने,
ढूंढ़ ले तू रास्ता और फिर कहीं करतब दिखा।

No comments:

Post a Comment

टिप्पणियों का मतलब विचार। अपने विचार जरूर दीजिए।