Sunday, January 18, 2009

लाज की गठरी खोलिए, बोलिए-शुक्रिया

आदमी मर जाता है, पर जिंदगी भर न तो कृतज्ञता के दो शब्द बोल पाता है, न सुन पाता है। हां, बोलने के लिए या सुनने के लिए तरसता जरूर रहता है। आपने कृतज्ञता के, धन्यवाद के, शुक्रिया के बोल नहीं बोले तो इसे अपने व्यक्तित्व की सबसे बड़ी खामी मानिये। आपकी मां, बीवी या बेटी सुबह आपको मीठे शब्दों के साथ जगाती है, गर्मागर्म चाय देती है और सुबह-सुबह जगाने के लिए भिन्नाते हुए आप चाय सुरुक लेते हैं। जूठा कप टेबल पर डालते हैं और बाथरूम निकल जाते हैं। वहां आपका तौलिया-साबुन सबकुछ करीने से रखा है। नहाये-धोये और घर में आये तो कपड़े प्रेस किये मिल जाते हैं। आपने पहना और पहुंच गये नाश्ते की टेबल पर। आपकी पसंद का नाश्ता रखा है। चपर-चपर खाये और दफ्तर पहुंचने की हड़बड़ी दिखाते निकल गये। इन सभी सेवाओं के लिए आपने घर वालों को धन्यवाद दिया? उनके प्रति शुक्रिया अदा किया? नहीं न? तो सोचिए, कितने कृतघ्न हैं आप?
और आप दफ्तर पहुंच गये। गेट पर दरबान नमस्कार कर रहा है। आप उसकी ओर देख नहीं रहे। रिशेप्शन पर बैठा कोई शख्स, दफ्तर में मौजूद कोई कर्मचारी आपके सम्मान में खड़ा हो रहा है, आपकी गर्दन में बल नहीं पड़ रहा। आपकी टेबल साफ है, फाइलें करीने से लगी हैं, सभी रिपोर्ट टेबल पर सही-सलामत पड़ी है, गलास में साफ और ताजा पानी भरा है। यदि ये सब नहीं हैं तो कोई आपके आदेश पर हुक्म बजाने को बिल्कुल तैयार, चौकस खड़ा है, आपकी ओर देख रहा है। आपके एक-एक हुक्म पर वह जी-जान से दौड़ता काम बजा रहा है। और आप क्या कर रहे हैं? हेकड़ी दिखा रहे हैं। मानवोचित व्यवहार तो दूर, खामियां निकालने में लगे हैं, अपमानित करने में लगे हैं। क्या आपको इन सबके प्रति शुकराना अदा नहीं करना चाहिए? आप बाजार निकलते हैं। आटो पकड़ते हैं, टैक्सी पकड़ते हैं, बस पकड़ते हैं। वह आपको आपकी मंजिल पर पहुंचाता है। आपने भाड़ा चुकाया, किस्सा खत्म। क्या इंसानी जज्बों को मुकाम मिल गया? आप उन्हें शुक्रिया बोलकर देखिए। जो होगा महसूस कीजिए। हो सकता है, शुक्रिया सुनकर कोई आपकी बांहें थाम ले, आंसू भरी आंखों से आपको सलाम करे। आपकी आत्मा प्रसन्न हो जायेगी। आप महसूस कर पायेंगे कि आपकी एक शुक्रिया किसी के जीवन में किस कदर क्रांतिकारी व सुखद परिवर्तन ला पायी।
आदमी की औकात क्या है? कभी सोचा आपने? जरा सोचिए। विशाल सागर, चारों ओर अथाह जलराशि। लहरें ठाठें मार रही हैं। इसी अथाह जलराशि के बीच लहरों के साथ अपने वजूद को बचाने का संघर्ष करता, आगे बढ़ता एक बहुमंजिला जहाज। हर मंजिल पर अफरातफरी। इसकी सबसे निचली मंजिल। दर्जनों कमरे। आलू के बोरों से भरा आखिरी कमरा। इस पैक कमरे के कोने में रखा आलू का सबसे निचला बोरा। इस बोरे के भीतर सबसे नीचे का एक आलू, जो सड़ गया है। सड़े आलू में मौजूद एक कीड़ा। और यह कीड़ा सोच रहा है कि वह सागर के मैकेनिज्म को समझ लेगा, जान लेगा। बड़ी मुश्किल कि वह आलू के बोरे से निकल पाये। वहां से निकला तो कमरे से निकल पाने की ही कोई गारंटी नहीं। फिर कैसे तय पायेगा अपनी मंजिल? कहां खत्म हो जायेगा, किसके पैरों तले कुचल जायेगा, पता नहीं। फिर कीड़े की उम्र ही कितनी होगी। वही खत्म हो सकती है। क्या वह सागर के मैकेनिज्म को समझ सकता है, जान सकता है? क्या इस कीड़े से ज्यादा औकात है आदमी की?
आदमी कोई हो, क्या है उसकी औकात, क्या है उसका वजूद? उम्र तक सीमित है आदमी की। सब कछ ठीक-ठाक रहा तो औसतन साठ-सत्तर-अस्सी। या इससे भी ज्यादा? किसी को कोई भुलावा हो तो वह अपने बाप की उम्र देख ले, दादा की उम्र देख ले। उनसे दो-चार-पांच वर्ष ही तो इधर-उधर उम्र रहेगी? कितनी तो काट चुके, अब कितनी बची है, अंदाजा कर सकते हैं। कर सकते हैं कि नहीं? तो काहे का दर्प, काहे का घमंड, काहे की लाज? इन सभी को गठरियों में बांधकर ढोना छोडिए। यह आपको कृतघ्न बनाती है। आदमी हैं तो कृतज्ञ होना सीखिए। हर कदम, हर मोड़ पर बोलिए, शुक्रिया, शुक्रिया, सबका शुक्रिया। चमत्कार होगा साहब, चमत्कार। आपकी छवि में चार चांद लग जायेंगे। कृतज्ञ व्यक्ति ही सम्मान का भागी होता है। और सम्मान से बड़ा कोई सुख है क्या? मेरा व्यक्तिगत अनुभव है कि जिसके व्यक्तित्व में सिर्फ शुकराने का भाव है, उसके सामने से बड़ी से बड़ी समस्याएं छू-मंतर गायब हो जाती हैं। व्यक्तित्व विकास पर अभी चर्चा जारी रहेगी। आगे सम्मान पर कुछ बात करने का इरादा है। आखिर कोई क्यों हो जाता है अपमानित, संभवतः इसका कोई सूत्र पकड़ में आये।

मकड़ी के जाले में छोटे-छोटे कीड़े-मच्छर ही फंसते हैं, चील-कौए उस जाले को फाड़कर निकल जाते हैं।

8 comments:

  1. are bhai shukria bahut achha lekh hai sadhuvaad

    ReplyDelete
  2. अरसे बाद इतनी सरल और मनमोहक शैली में सामान्य पर अति महत्वपूर्ण विषय पर अच्छा ललित निबंध पढने को मिला.
    लिखते रहें
    सादर
    कौशल किशोर

    ReplyDelete
  3. शुक्रिया कहने में कैसी लाज-

    आपका शुक्रिया जो इस बारे में लिखा.

    ReplyDelete
  4. जनाब, बिल्कुल झप्पी देने वाला लेख लिखा है। मुन्नाभाई के डायलॉग याद आ गए। आपने जो लिखा है वो मैनें करके देखा है। वास्तव में बहुत फर्क आ जाता है शुक्रिया या धन्यवाद के एक शब्द से। एक अच्छा और सारगर्भित लेख पढ़वाने के लिए धन्यवाद। इसलिए नहीं कि आपने ऐसा करने के लिए लिखा है बल्कि इसलिए कि वाकई ये काबिले तारीफ लिखा है।

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद सभी सम्मानित टिप्पणीकारों को, आपके शुकराने से मैं रोमांचित हूं। सच।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा और बढ़िया लिखा है आपने ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. एक बहुत ही बढिया एवं सारगर्भित लेख हेतु आभार स्वीकार करें.......

    ReplyDelete

टिप्पणियों का मतलब विचार। अपने विचार जरूर दीजिए।